एकादशी व्रत 2022: अगली एकादशी

अगली एकादशी कब है | Agli Ekadashi Kab Hai

इस व्रत के लिए लोगों में आस्था है की इस व्रत को रखने और भगवान विष्णु की विधि विधान से पूजा करने से सभी मनोकामनाएं पूर्ण होती है और जीवन में सुख व समृद्धि की प्राप्ति होती है।

कैलेंडर 2022: अगस्त एकादशी व्रत

अगस्त में एकादशी कब है 2022 | August Mein Ekadashi Kab Hai 2022

एकादशी व्रत के लिए अन्य बहुत सी अन्य मान्यताएं भी हैं, जिसके हिसाब से व्रत रखने वाले की सभी मान्यताएं पूरी होती हैं

कैलेंडर 2022: जुलाई एकादशी व्रत

जुलाई में एकादशी कब है 2022 | July Mein Ekadashi Kab Hai 2022

सभी एकादशियों के व्रत भगवान विष्णु को समर्पित हैं, जो भक्त एकादशी का व्रत पवित्र मन से करते हैं उनके सारे पाप नष्ट हो जाते हैं और को मोक्ष की प्राप्ति होती है।

कैलेंडर 2022: जून एकादशी व्रत

जून में एकादशी कब है 2022 - June Mein Ekadashi Kab Hai 2022

सभी एकादशियों के व्रत भगवान विष्णु को समर्पित हैं, जो भक्त एकादशी का व्रत पवित्र मन से करते हैं उनके सारे पाप नष्ट हो जाते हैं और को मोक्ष की प्राप्ति होती है।

कैलेंडर 2022: योगिनी एकादशी

योगिनी एकादशी 2022 में कब हैं | Yogini Ekadashi 2022 Mein Kab Hai

हिन्दू कैलेंडर के अनुसार, आषाढ़ मास के कृष्णा पक्ष की तिथि को योगिनी एकादशी का व्रत रखा जाता है।

कैलेंडर 2023: सावन शिवरात्रि 2023

सावन शिवरात्रि 2023 में कब है - Sawan Shivratri 2023 Mein Kab Hai

कुंवारी कन्याएं इस माह में सुयोग्य वर की प्राप्ति के लिए व्रत रखती है और भगवान भोलेनाथ की पूजा व अर्चना करती है

कैलेंडर 2022: सावन शिवरात्रि 2022

सावन शिवरात्रि 2022 में कब है - Sawan Shivratri 2022 Mein Kab Hai

इसमें भोलेनाथ की आराधना करने से सुख शांति व समृद्धि की प्राप्ति होती है, कुंवारी कन्याएं इस माह में सुयोग्य वर की प्राप्ति के लिए व्रत रखती है और भगवान भोलेनाथ की पूजा व अर्चना करती है।

अपना वोट और कमेंट अभी करें

Nupur Sharma Voting Poll in Hindi

नूपुर शर्मा के चर्चे आज कल भारत में ही नहीं बल्कि देश विदेश में सभी जगह हैं, जिसके बाद भारत में शुक्रवार को जुम्मे की नवाज़ जे बाद बहुत बवाल खड़ा हो गया है, जगह जगह दंगे चल रहे हैं और इन्हे गिरफ्तार करने की मांग चल रही हैं। इसी को देखते हुए हम भारत … Read more

निर्जला एकादशी व्रत की कहानी

निर्जला एकादशी व्रत कथा - Nirjala Ekadashi Vrat Katha in Hindi

एक कथा के अनुसार, महाभारत काल में सबसे पहले भीम ने इस व्रत को किया था। इसलिए इसे भीमसेनी एकादशी भी कहा जाता है।